उत्तराखंड में मकर संक्रांति और पकवान

Image
उत्तराखंड में मकर संक्रांति का खानपान      नए वर्ष के आरंभ होते ही पहला उत्सव हमें मकर संक्रांति में रूप में मिलता है। इस संक्रति में सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है इसलिए इसे मकर संक्रांति कहते हैं। इसको उत्तरायणी भी कहा जाता है क्योंकि सूर्य दक्षिण दिशा से उत्तर की दिशा की ओर आता है। इसलिए आज से दिन लंबे और रात छोटी होने लगती है।  मकर संक्रांति का महत्व:   मकर संक्रांति का महत्व हिंदू शास्त्र में इसलिए भी है क्योंकि सूर्य देव अपने पुत्र जो मकर राशि के स्वामी हैं शनि से मिलते हैं जो ज्योतिषी विद्या में महत्वपूर्ण योग होता है। इसलिए माना जाता है कि इस योग में स्नान, ध्यान और दान से पुण्य मिलता है। वैसे इस दिन भगवान विष्णु की भी पूजा की जाती है क्योंकि कहा जाता है कि भगवान विष्णु ने इस दिन मधु कैटभ दानवों का अंत किया था।    मकर संक्रांति से ही शुभ कार्यों का आरंभ भी हो जाता है क्योंकि उत्तरायण में हम 'देवों के दिन' और दक्षिणायन में हम रात मानते हैं इसलिए मांगलिक कार्यों का आरंभ आज से हो जाता है।    यहां तक कि माना जाता है कि उत्तरायण में मृत्यु से श्री चरणों में म

कल से पक्का...New Year Resolution

"कल से पक्का"...New Year Resolution

 
  "बस आज आखिरी, कल से पक्का" ... ये अमूमन मेरे जैसे बहुतों का हाल है। ऐसा बोलते बोलते पूरा साल कब खत्म हो गया पता ही नहीं चला। अब हम 2022 में कदम रख चुके हैं। पिछले साल के अनुभव चाहे जैसे भी रहे हों लेकिन नया साल सबके लिए हमेशा नए सपने और नई उम्मीदों भरा होता है। साथ ही नए साल के आने की जितनी खुशी होती है उतना ही उत्साह अपने रेजोल्यूशन की लिस्ट बनाने में भी आता है।अब इस नए साल में भी सबके अपने अपने सपने और अपने अपने (रेजोल्यूशन) संकल्प। 
  इन्हीं सब के साथ कुछ रेजोल्यूशन ऐसे हैं जो अधिकतर लोग साल के आखिरी दिन जरूर सोचते है और नव वर्ष से इसकी शुरुआत भी करते हैं, जैसे...रोज व्यायाम करना/ फिट रहना/ वजन कम करना/ मीठा खाना छोड़ना/ खाना काम खाना। इसके अलावा भी बहुत से संकल्प हैं जैसे...ज्यादा पैसे बचाना/ संगीत या कोई भी हॉबी सीखना/ जीवन शैली बदलना/ धूम्रपान या अल्कोहल छोड़ना/ परिवार के साथ समय बिताना/ सोशल साइट पर लगाम वगैरह वगैरह। लेकिन एक सर्वे के अनुसार सबसे अधिक रेजोल्यूशन व्यायाम के लिए बनते हैं। 
   नए साल के साथ ही कुछ लोग जिम का सालाना पैकेज ले लेते हैं और कितने ही योग की कक्षाएं खोज निकालते हैं। बहुत से तो अपने आप सुबह की सैर पर निकल जाते हैं। अभी ये पता नहीं कि कितने लोग इसमें सफल हो पाते हैं क्योंकि देश में केवल 10 से 12 % लोग ही व्यायाम करते हैं। 
 कई लोग आरंभ के कुछ दिन या कुछ माह तो बड़े उत्साह से ट्रेडमिल पर भागते या पार्क में योगासन लगाते हुए दिख जाएंगे फिर धीरे धीरे कोई जरूरी काम पहले आएगा फिर ये रेजोल्यूशन आलस में कब बदल जाएगा इसकी खबर भी नहीं लगती। (इनमें से एक मैं भी हूं।)
  वजन इतना कम करना है, कमर इतने इंच काम करनी है, बस अब मीठा खाना छोड़ देना है, रात में केवल सूप या सब्जी ही खानी है इतने सारे संकल्पों के साथ नए साल की शुरुआत तो होती है लेकिन पता नहीं क्यों ये साल के आखिरी दिनों तक कायम क्यों नहीं रह पाते।
  इतने सारे रेजोल्यूशन के बीच कुछ लोग तो पूरे साल ऐसा ही करते हैं और अपने लक्ष्य को पहुंचते भी हैं लेकिन मेरे जैसे कुछ लोग लोगों के रेजोल्यूशन शायद जितनी जल्दी बनते हैं उतने जल्दी टूट भी जाते हैं।

  लेकिन इस साल चाहे कितने भी रेजोल्यूशन बनाएं लेकिन फिटनेस से संबंधित रेजोल्यूशन जरूर पूरा करें और अपने इस रेजोल्यूशन को पूरा करने का रेजोल्यूशन भी अपनी लिस्ट में रखें क्योंकि आने वाला समय स्वास्थ्य की अनेक चुनौतियों को लेकर आ रहा है जिसमें हमें बल बुद्धि और विवेक तीनों से शक्तिशाली होना है इसलिए "कल से पक्का" छोड़कर आज से रेजोल्यूशन पर काम शुरू।

Happy New Year with "Stay Fit Stay Healthy"

एक - Naari
  

Comments

  1. Nice,,, I also did the same...hahaha

    ReplyDelete
  2. It's really a common resolution but hardly to reach...I am also in the same boat.. will try to complete it... Interesting post.

    ReplyDelete
  3. Kal se pakka... common problem of mine too

    ReplyDelete
  4. Nav varsh ki dheron shubhkamnaye
    Reena mam 😇🙏

    ReplyDelete
  5. Bilkul sahi kaha,,31 December ko bante hain or 1 January ko gayab... Happy New year

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

उत्तराखंडी अनाज.....झंगोरा (Jhangora: Indian Barnyard Millet)

मेरे ब्रदर की दुल्हन (गढ़वाली विवाह के रीति रिवाज)

मायका मतलब सेवा, सुख, स्मृति और सीख ।।